Subscribe To Our Newsletter

Get Our Latest Updates Straight To Your Inbox For
Free! Unsubscribe Any Time Whenever You Want.

Powered by Knigulper

हिंदी कहानी - ईमानदारी Hindi Story Honesty


Hindi Story Honesty हिन्दी कहानी - ईमानदारी 


बहुत पुराने समय की बात है, एक महापाल नामक राज्य पर राजा महेंद्र का शासन था. राजा महेंद्र प्रजा पालक राजा थे. उनके राज्य में सभी सुखी और प्रसन्न रहते थे. राजा अपनी प्रजा को पुत्रवत पालन करते थे. सब जगह राजा के गुणगान होते थे. लेकिन एक बात राजा तथा प्रजा दोनों को परेशान किए हुए थी की राज्य का अगला राजा कौन होगा, क्योंकि राजा के कोई सन्तान नहीं नहीं थी.

hindi-Story


एक दिन राज्य के मंत्री ने यह बात राजा से की तो राजा भी सोच में पड गया की अब क्या किया जाए, कुछ सोच कर उसने मंत्री से कहा की कल प्रत्येक घर से एक एक आदमी को दरबार में बुलाया जाए ताकि में उनके compitation करवा कर उनमे से भावी राजा सलेक्ट करु.

मंत्री ने राजा के आदेश के अनुसार लोगो को एक निश्चित दिन दरबार में बुला दिया की आज राजा अपना उत्तराधिकारी को सलेक्ट करेंगे.
सभी लोग जब दरबार में आए तो राजा ने उन्हें एक एक बीज देते हुए कहा की इसको ले जाओ और एक साल बाद एक पौधे के रूप में वापिस लेकर आना.
जिस व्यक्ति का पौथा सुंदर और अच्छा होगा उसे इस राज्य का भावी राजा घोषित किया जाएगा.  

ठीक एक साल के बाद सभी लोग गमले में सुंदर से पौधे के साथ दरबार में आए. मंत्री ने राजा के आदेश के अनुसार उन सभी पौधो को Garden में रखवा दिया. और उसमे उनके नाम के टैग लगा दिए.
जब Result का टाइम आया तो सभी लोग उत्साह से देखने लगे की अगला राजा कौन होगा.

loading...
राजा ने वहां आकर सभी पौधो को ध्यान से देखा पौधे एक से बढकर थे. फिर राजा ने मंत्री से पूछा की क्या सभी लोग आ गये जिन्हें बीज दिया गया था. तो मंत्री ने कहा हाँ महाराज सभी लोग आ गये, एक लड़का खाली गमला लेकर आया था उसने पौधा नहीं उगाया था इसलिए उसे वापिस भेज दिया.

यह सुनते ही राजा ने कहा –‘ वो कहा है उसे तुरंत बुलाओ.’
मंत्री ने राजा के आदेश की पालना करते हुए सैनिक को भेज कर उस लडके को बुला लिया.
राजा ने लड़के से पूछा की तुमने पौधा क्यों नहीं उगाया? तो लडके ने जवाब दिया-‘महाराज पौधे को उगाने के लिए बहुत कोशिश की लेकिन पौधा नहीं पैदा हुआ.

लडके का जवाब सुनकर राजा बहुत प्रसन्न हुआ और उन्होंने कहा कि यह लड़का हमारे राज्य का भावी राजा होगा. सभी लोग विचार में पड गये की राजा ने ऐसा क्यों किया? इस लडके का गमला तो पूरी तरह से खाली था तो राजा ने इसे कैसे सलेक्ट किया?




राजा ने सभी लोगो की शंका का समाधान करते हुए कहा कि- आप सब लोग सोच रहे होंगे की मैने इस लड़के को क्यों सलेक्ट किया? इन सभी लोगो के पौधे बहुत सुंदर थे पर सब लोग झूठे है. मैने जो बीज दी थे वो उपजाऊ नहीं थे, सभी बीज ख़राब थे जो की पैदा ही नहीं हो सकते चाहे उसे कितना भी खाद पानी दो. इस लड़के ने ईमानदारी से खाली गमला लेकर आया और यह सभी लोग पौधे लेकर आये.’
मैं अपने राज्य का ईमानदार राजा चाहता था इसलिए ईमानदार लड़के को सलेक्ट किया. और राजा ने उस लड़के को भावी राजा घोषित कर दिया.

Moral / शिक्षा –                  दोस्तों इस कहानी से हमे यह शिक्षा मिलती है कि हमे अपने आपको ईमानदार बनाना चाहिए. दोस्तों ईमानदारी से यदि हम अपना Work करे तो निश्चित ही हम Success होंगे.  
read also 

हिंदी कहानी - विकास Hindi Story Development



दोस्तों आपको हमारी यह post “प्रेरक कहानी ईमानदारी” कैसी लगी आप अपने विचार comments box में जरुर रखे. 

3 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, "युद्ध की शुरुआत - ब्लॉग बुलेटिन “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. पोस्ट शामिल करने के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete