पढा़ई करवा म्हें जास्याँ Hindi poem


Hindi-poem-girl-study


ओ म्हारी पढा़ई छे नखराळी ऐ माँ
पढ़ाई करवा म्हें जास्याँ 
ओ माँ पढ़ाई करवा म्हें जास्याँ

ओ म्हाने पढता ने किताब लादयो ऐ माँ
पढ़ाई करवा म्हें जास्याँ 
ओ माँ पढ़ाई करवा  म्हें जास्याँ

ओ म्हाने पढता ने  कागज कलम लादयो ऐ माँ 
पढा़ई करवा म्हें जास्याँ
ओ  माँ पढा़ई करवा म्हें जास्याँ

ओ म्हाने बालपने मे मत देजो रे माँ 
पढाई करवा म्हें जास्याँ
ओ माँ पढाई करवा म्हें जास्याँ 

ओ म्हाने चार आखर पढ़न दिजो रे माँ
पढा़ई करवा म्हें जास्याँ
ओ माँ पढा़ई करवा म्हें जास्याँ

ओ म्हारी पढाई छे नखराळी ऐ माँ
पढाई करवा म्हें जास्याँ ...
                     विरम सिंह 




विरम सिंह
विरम सिंह

He is a educational blogger and share useful content in hindi on this blog regularly. if you like this blog then share with your friends.

3 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 19 सितम्बर 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. अनुपम भाव संयोजित किये हैं आपने .. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति

    ReplyDelete