Subscribe To Our Newsletter

Get Our Latest Updates Straight To Your Inbox For
Free! Unsubscribe Any Time Whenever You Want.

Powered by Knigulper

युवा देखे है

       

            कविता


कविता युवा देखे है



नीली नीली आँखो से तीर निकलते देखे है
घायल पंछी की भांति तड़पते आशिक देखे है ।।

कोयल जैसी आवाज उसकी , रसगुल्ले जैसे होठ है ।
इन होठो पर मरते युवा देखे  है   ।।

बादाम जैसी आँखे उसकी , हिरणी सी चाल है ।
आँखो से आँखे लड़ाते नौजवान देखे है ।।

वो भाव देती नहीं , ( फिर भी) चींटी की तरह चिपकते है।
भारत माता पुकार रही , अनजान बनते युवा देखे है ।।

जिसने नौ माह पेट मे रखा , दि जमाने की हर खुशी।
उस माँ को "तेरी क्या औकात " कहते बेटे देखे है ।।

गाय माता दुख मे पुकार रही है ।
इश्क मे घायल युवाओ को अनजान बनते देखे है ।।

घायल पंछी की भांति तड़पते आशिक देखे है .....

♤♤♤♡♤♡♢♧♡■♡♢♤♢♧♢♡♢☆♢

                 विरम सिंह सुरावा



No comments:

Post a Comment