Dr APJ Abdul Kalam thoughts in hindi | एपीजे अब्दुल कलाम से हम क्या सीखे?

 

 

  एपीजे अब्दुल कलाम के विचार  APJ Abdul Kalam in hindi


 dr. APJ Abdul kalam केवल एक नाम ही नहीं बल्कि एक ऐसा व्यक्तित्व है जो हर इंसान को पल - पल और कदम - कदम पर निरंतर आगे बढ़ने का हौसला देता है.

कलाम साहब बच्चो और युवाओं में काफी लोकप्रिय रहे और कई लोगो के ideal भी है. कलाम साहब का सम्पूर्ण जीवन यात्रा  अद्भुत है. अख़बार बेचने से लेकर भारत के राष्ट्रपति बनने का सफर वाकई अद्भुत है. कलाम साहब युवाओं को देश का भविष्य मानते थे और उनका कहना था की यही है जो भारत को एक नई दिशा देंगे. dr APJ Abdul Kalam को missile man के नाम से भी जाने जाते...

apj abdul kalam


कलाम साहब को public president के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि वे जनता में बहुत लोकप्रिय रहे. जब वे राष्ट्रपति बने तो उन्होंने राजभवन को जनता से जोड़ने का प्रयास किया. कलाम का जीवन students के लिए काफी प्रेरणादायी है और उनसे सीख कर नई ऊंचाई प्राप्त कर सकते है.

APJ Abdul Kalam Quotes on students, teachers, hard word, dreams in hindi 


एपीजे अब्दुल कलाम का जन्म 15 october 1931 को रामेश्वरम में हुआ था. कलाम ने अपने बचपन में कई प्रकार की चुनोतियों का सामना करते हुए अपने मुकाम तक पहुंचे थे. कलाम का जीवन एक मिशन था वे हर समय कुछ नया  सिखने का प्रयास करते थे.  डॉ कलाम ने अपनी किताबों और कोट्स में युवाओं के लिए बहुत motivational बातें लिखी है, यदि हम उनकी बातों को अपने जीवन में उतारे तो अवश्य ही success हो सकते है...


इंतजार पर एपीजे अब्दुल कलाम के विचार 

हम लोगो में से बहुत से लोगो की समस्या होती है की हम इंतजार करते रहते है की कभी मौका आएगा तब हम सक्सेस हो जाएँगे और इसी सोच में बेठे रहते है लेकिन कलाम साहब कहते है की -"इंतजार करने वालों को उतना ही मिलता है जितना मेहनत करने वाले छोड़ देते है." यह सच भी है की यदि हम बैठे रहते है तो हमे उतना ही मिलता है जितना आगे चलने वाले छोड़ जाते है.. इसलिए केवल बेठे कर सपने देखने से कुछ नहीं होता बल्कि उसके लिए कड़ी मेहनत करनी चाहिए तब सफलता मिलती है...

kalam quotes


सपनो पर कलाम के विचार 

सपनों को लेकर भी कलाम साहब ने बहुत शानदार बात कही है कि -" सपने वे नहीं होते जो सोते हुए देखते है, सपने तो वे होते है जो सोने ही नहीं देते."  अर्थात बस ख्यालों  में ही खोए रहे की ऐसा हो जाए वैसा हो जाए तो जिन्दगी ख्यालों में ही गुजर जाती है.. यदि सक्सेस होना है तो खुली आँखों से सपने देखो ओअर उसे पूरा करने के लिए नींद को भी त्याग दो तो आप एक दिन अवश्य success होंगे.



सपनों से जुडी हुई एक और बात अब्दुल कलाम ने कही है की -"महान सपने देखने वालों के महान सपने अवश्य पुरे होते है." हम क्या करते है की सपने ही छोटे देखते है जिससे हमे मिलता भी थोडा  है.. यदि हमे चन्द्रमा तक जाना है तो सूर्य तक जाने का सपना देखना चाहिए क्योंकि यदि सूर्य तक नहीं जा पाए तो कोई बात नहीं चन्द्रमा तक तो पहुँच ही जायेंगे...

मेहनत पर अब्दुल कलाम के विचार

 जितने भी बड़े और सक्सेस लोग हुए है सब ने सफलता की कुंजी मेहनत को ही बताया है. यही बात कलाम साहब ने भी कही है.. वे हमेशा बच्चो और युवाओं को कड़ी मेहनत करने की सलाह देते रहे है. उन्होंने कहा है कि -"यदि सूरज की तरह चमकना है तो पहले सूरज की जलना सीखो." 

 हम किसी सफल व्यक्ति को देखकर उसके जैसा बनने की सोचते है पर यह कभी नहीं देखते की उसने इस मुकाम तक पहुँचने के लिए कितने पापड़ बेले है. इसलिए यदि हमे सफल होकर दुनिया में चमकने है तो सूरज की भांति तपना होगा...

क्योंकि "शिखर तक पहुँचने के लिए ताकत चाहिए होती है फिर चाहे वो माउंट एवरेस्ट का शिखर हो या आपके पेशे का." APJ Kalaam

apj kalam life


भष्टाचार पर कलाम साहब के विचार

डॉ अब्दुल कलाम खुद सादगी भरा जीवन जीते थे वे प्रेसिडेंट बने तब भी उन्होंने अपनी जीवन शैली को नहीं बदला.. वे कहते थे कि - " यदि देश को भष्टाचार से मुक्त और सुंदर राष्ट्र बनाना है तो इसमें तीन लोगो ऐसा कर सकते है - माँ, पिता और शिक्षक."

एक व्यक्ति के जीवन पर सबसे अधिक प्रभाव उसके माता-पिता और गुरु का पड़ता है और वे ही उसे एक सही राह द्दिखा सकते है...


कठिनाई पर एपीजे कलाम के विचार

हम अपने जीवन के मार्ग में जब भी कोई कठिनाई देखते है तो लक्ष्य से विचलित हो जाते है या उस लक्ष्य को ही छोड़ देते है. हम मेंसे बहुत से लोग कठिनाई से डॉ जाते है जबकि कलाम साहब का मानना था कि -" इन्सान को कठिनाइयों की आवश्यकता होती है क्योंकि सफलता का आनन्द उठाने के लिए यह जरुरी है."

जो चीज हमे आसानी से मिल जाए उसके लिए हमे उतनी ख़ुशी नहीं होती है जितनी मुश्किल से लड़ कर प्राप्त की गई चीजों में होती है..
और वो ये भी कहते थे कि -"जब हम मुश्किल हालात का सामना करते है , तो हम अपने साहस और ताकत के छिपे हुए भंडार को खोज पाते है.."

 

लक्ष्य पर APJ Abdul kalam के विचार
  
अपने कार्य में सफलता को लेकर कलाम साहब कहते है की "यदि आपको अपने मिशन में कामयाब होना है तो लक्ष्य के प्रति एकचित्त निष्ठावान होना पड़ेगा. " यह जरुरी भी है क्योंकि यदि हम अपने लक्ष्य बदलते रहेंगे तो सफलता के कोई चांस नहीं है जैसे अलग अलग जगह 10 कुएँ खोदने की बजाय एक जगह ही खोदे तो पानी निकलने की अधिक सम्भावना होती है...

 

बच्चों के लिए कलाम के विचार

 कलाम को स्टूडेंट्स बहुत पसंद थे वे हमेशा students के साथ रहना पसंद करते थे. वे बच्चों से कहा करते थे की आप इन चार बातों को अपने से रोज बोले-
  1. मैं सबसे अच्छा हूँ...
  2. में यह काम कर सकता हूँ...
  3. चैम्पियन था और हूँ...
  4. आज का दिन मेरा है..


और कलाम साहब के एक बहुत सुंदर कोट्स है कि -" किसी को हराना आसान है परन्तु किसी को जितना बहुत मुश्किल है.."

दोस्तों आपको हमारी यह पोस्ट कैसी लगी ? आप comments करके जरुर बताएँ... हम आपके लिए और ऐसी प्रेरणादायी जानकारी आपका पहुंचाते रहे इसके लिए आप हमारा ईमेल सब्सक्रिप्शन जरुर ले...

What is S-400 missile system ? S-400 मिसाइल्स क्या है और भारत को इसकी जरूरत क्यों है?


 S-400 missile system क्या है? इसकी क्षमता और कीमत कितनी है? भारत को इसकी जरुरत क्यों है? सभी जानकारी हिंदी में



S-400 Triump missile Defense system russian company के द्वारा बनाया गया ताकतवर defense सिस्टम है, इसकी कार्यक्षमता का लोहा NATO और United State भी मानते है.
5 October 2018 को भारत और रूस के बिच इस मिसाइल डिफेन्स सिस्टम को लेकर डील हुई है जिससे भारत की वायुसेना को और ताकत मिलेगी.
s-400 missile system



दोस्तों Indian Air-force Chief कई बार कह चुके है की हमारे पास एयरक्राफ्ट की कमी है और यदि दो मोर्चो ( पाकिस्तान व चीन) पर एक साथ युद्ध लड़ना पड़ा तो हमारे लिए मुश्किल हो सकती है. इसलिए भारत को एक ऐसे सिस्टम की आवश्यकता थी जो इस कमी को पूरी कर सके.

आज इस पोस्ट हम हम जानेगे की S-400 मिसाइल डिफेन्स सिस्टम क्या है? , S-400 की खासियत क्या है?, भारत को इसकी आवश्यकता क्यों है? इस डिफेन्स सिस्टम की क्षमता और कीमत कितनी  है? आदि points को हम इस post में clear करेंगे ....

S-400 Missile Defense System क्या है?

   S-400 को russia कि Almaz Antey नामक कंपनी ने बनाया है. इस को NATO ने SA-21 Growler नाम दिया है. यह Modern Long Range Surface To Air Missile System है.
S-300 को upgrade करकें S-400 को बनाया गया है. इसका रूस ने पहली बार उपयोग 2007 में किया था. यह system दुश्मन की मिसाइल को हवा में ही मिटाने की क्षमता रखता है.

S-400 क्या कर सकता है?

   S-400 मिसाइल डिफेन्स सिस्टम aircraft, ballistic और cruise मिसाइल्स को आसानी से Target कर सकता है.
यह डिफेन्स सिस्टम 400km की रेंज में आने वाले टारगेट को हवा में खत्म क्र सकती है.

S-400 की क्षमता कितनी है?
  यह एक ताकतवर मिसाइल डिफेन्स सिस्टम है. इसकी ताकत के आगे कई मिसाइल्स पानी भरती है.

  1. यह ताकतवर रक्षा कवच देता है. 
  2. s-400, 400km की range में आने वाले टारगेट को 17 हजार किलोमीटर प्रति घंटे की speed से हिट कर उसे राख बना सकता है.
  3. यह एक साथ 36 परमाणु missiles को खत्म कर सकता है.
  4. यहं अमेरिका के ताकतवर लड़ाकू विमान F-35 को भी गिरा सकता है.
  5. यह system बैलिस्टिक और क्रूज मिसाइल को नष्ट कर सकता है.
  6. S-400 5 से 10 मिनट में वापिस install होकर ready हो जाता है.
  7. s-४०० का आवागमन भी आसानी से किया जा सकता है.

अपनी इन विशेषताओं के कारण ही दुनिया S-400 का लोहा मानती है. और हर कोई देश अपने रक्षा कवच में शामिल करना चाहता है.
चीन ने भी रूस से इसकी 6 battalion ली है और अब भारत ने भी 5 battalion की डील पर sign किये है.

भारत को S-400 की जरूरत क्यों है?
 
    वैसे तो India शांति में विश्वास रखता है पर दो पड़ोसी देशों की वजह से रक्षा कवच को बढाने की जरूरत है. चीन ने कुछ समय पहले यह सिस्टम लिया है और उसके पास काफी एयरक्राफ्ट है तो दूसरी तरफ पाकिस्तान के पास भी चीन व अमेरिका के दिए हुए aircraft है.
इन दोनों से निपटने के लिए भारत को अपनी हवाई ताकत बढ़ने की जरूरत है. और इसका अच्छा solution S-400 मिसाइल डिफेन्स सिस्टम है..



आइए अब भारत,चीन और पाकिस्तान की एयरफोर्स की ताकत को देखते है.

चीन की हवाई ताकत
       china के पास 1700 Fighters है और इसमें 800 4th generation के Fighter है.
चाइना ने रूस से s-400 की 6 battalion ली है.


पाकिस्तान की हवाई ताकत
        पाक के पास 20 Fighter Squadrons है जिसमे upgraded F-16s और J-17 भी शामिल है.
`
भारत की हवाई ताकत
     भारत के पास 14 स्क्वाड्रन है जिसमे मिग 21 व मिग 27 है और भारत के पास 100 सुखोई है परन्तु एक समय 35 ही उपलब्ध हो पाते है.

दोनों मोर्चों पर लड़ने के लिए भारत को एक मिसाइल डिफेन्स सिस्टम की जरूरत थी और S-400 इसके लिए उपयुक्त विकल्प है इसी कारण भारत ने russia के साथ Deal करके 40 हजार करोड़ में S-400 की 5 battalion खरीदी है.

भारत - रूस की इस डील पर अमेरिका के राष्ट्रपति ने भारत पर CAATSA के तहत प्रतिबंध लगाने की बात की  है लेकिन बिना दबाव में आये भारत ने रूस से यह समझौता कर लिया है.


what is sc st act in hindi
what is yoga in hindi
इच्छा मृत्यु कानून क्या है

दोस्तों आपको हमारी यह पोस्ट कैसी लगी? आप कमेंट्स करके जरुर बताए और यदि आपको इससे जुदा कोई सवाल हो तो कमेंट्स बॉक्स में अवश्य रखे.

भगत सिंह की जीवनी bhagat singh biography in hindi

bhagat Singh history in hindi भगत सिंह जयंती 28 सितम्बर


हमारे देश पर लगभग 200 वर्ष तक अंग्रेजो ने शासन किया था और उन्होंने इन 200 वर्ष में india को लुटने का ही काम किया। उनका उद्देश्य केवल लूटना ही था वे यहाँ के लोगो पर बहुत अत्याचार करते थे। देश को उनके क्रूर शासन से मुक्ति दिलाने के लिए बहुत से लोगो ने अपनी जान की कुर्बानियां दी थी।

Bhagat Singh biography 


  देश की आजादी के लिए freedom fighters हँसते हँसते फांसी पर झूल गए थे । उन्ही आजादी के दीवानों मे से एक थे भगत सिंह जिन्होंने केवल 23 वर्ष की आयु में अपने वतन के लिए मौत को गले लगा लिया।

 ऐसे महान क्रांतिकारी का जीवन हमारे लिए प्रेरणादायी और अनुकरण करने योग्य है इसलिए आज हम gyandrashta.com पर bhagat singh ki jiwani post kar rahe है।



bhagat-singh


 bhagat singh's early life and education  प्रारम्भिक जीवन


      भगत सिंह का जन्म पंजाब के जिला लायलपुर में बंगा नामक गाँव में 27 सितम्बर, 1907 को हुआ था। जो की अब पाकिस्तान में है। bhagat singh के पिता सरदार किशन सिंह और भगत सिंह के चाचा अजित सिंह व स्वर्ण सिंह अंग्रेजो के विरोधी थे और इस वजह से उन्हें जेल भी जाना पड़ा। जिस दिन भगत सिंह का जन्म हुआ उसी दिन उनके पिता और चाचा जेल से रिहा होकर आये इसलिए भगत सिंह के दादा ने उनका नाम अच्छे भाग्य वाला मानकर भगत सिंह रखा।


  भगत सिंह को देशभक्ति की शिक्षा उनके परिवार के वातावरण से ही मिली थी उनका परिवार स्वतंत्रता प्रेमी था इसलिए भगत सिंह में भी स्वतन्त्रता और देशभक्ति कूट कूट कर भरी हुई थी।

भगत सिंह ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा अपने गाँव में ही प्राप्त की थी| भगतसिंह ने आगे की पढाई के लिए 1916-17 में लाहौर के D.A.V स्कूल में प्रवेश लिया ।


13 अप्रैल, 1919 में अमृतसर के जलियाँवाला बाग नामक स्थान पर लोगो rolet act के विरोध में शांतिपूर्ण तरीके से विरोध करते लोगो पर जनरल डायर ने गोलियां चलवा दी जिससे हजारो बेबस लोगो की मौत हो गई और इस घटना ने भगत सिंह को अंदर तक झकझोर दिया और उन्होंने उसी समय अंगेजो से इसका बदला लेने की और उन्हें भारत से भागने की शपथ ले ली।


    डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जीवन परिचय



भगत सिंह का स्वतंत्रता में योगदान

   महात्मा गाँधी ने 1920 में असहयोग आन्दोलन की घोषणा की तो भगत सिंह भी इस आन्दोलन में कूद पड़े| भगत सिंह ने अपनी पढाई भी छोड़ दी और आजादी के लिए संघर्ष करने लगे। लेकिन चोरा-चोरी कांड के बाद गांधीजी ने आन्दोलन वापिस ले लिया जिससे भगत सिंह बहुत आहत हुए।


जब लाला लाजपत राय ने लाहौर में नेशनल कोलेज कीस्थापना की तो भगत सिंह ने भी उसमे प्रवेश ले लिया|   national college में भगत सिंह की मुलाकात सुखदेव, यशपाल, झंडा सिंह और तीर्थ राम जैसे युवा क्रांतिकारियों से हुई और एक ही विचार धारा के हिने के कारण जल्द ही सभी गहरे दोस्त बन गए।


सभी दोस्त दिन रात देश की आजादी के लिए कार्य करते थे और वे भारत से अंग्रेजो को भगाने का plan बनाते थे। जब 1928 में साइमन कमीशन भारत आया तो इसके विरोध के लिए जुलुस निकाला गया जिसका नेतृत्व लाला लाजपत राय कर रहे थे। लोगो का भरी विरोध देखकर सहायक अधीक्षक साण्डर्स ने लोगो पर लाठीचार्ज का आदेश दे दिया । इस लाठीचार्ज में कई लोग घायल हुए और लाला लाजपत राय की पिट पिट कर हत्या कर दी गई। लालाजी की इस हत्या ने युवा खून में उबाल ला दिया और भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु और चंद्रशेखर आजाद ने मिलकर लाला लाजपत राय की मौत का बदला लेने के लिए साण्डर्स को मारने का प्लान बनाया।

भगत सिंह का प्लान काम कर गया और उन्होंने साण्डर्स की गोली मारकर हत्या कर दी और वहाँ से फरार हो गये।


जब केन्द्रीय असेम्बली में public sefti bill और डिस्प्यूट बिल पेश किए जाने की खबर हिंदुस्तान रिपब्लिक एसोसिएशन को हुई ( जिसके भगत सिंह भी सदस्य थे) तो उन्होंने इसका विरोध करने का निश्चय किया। भगत सिंह और सभी ने मिलकर प्लान बनाया की असेम्बली में बम फेंका जाए लेकिन बम ऐसी जगह फेंकने का निर्णय किया गया जहाँ पर कोई भी न हो।


असेम्बली में बम फेंकने की जिम्मेदारी भगत सिंह ने ली और उनके साथ बटुकेश्वर दत्त थे। इन दोनों ने असेम्बली की खाली जगह पर 2 बम फेंके ओए "इंकलाब जिंदाबाद" के नारे लगाते हुए वाही पर खड़े रहे और अपनी गिरफ्तारी दी।


भगत सिंह के जेल जाने के बाद एनी क्रांतिकारियों को भी पुलिस ने पकड लिया और अंग्रेजी अदालत ने 7 अक्टुम्बर, 1930 को भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को फाँसी की सजा सुना दी। 1931 में इस फैसले के खिलाफ प्रिवी काउन्सिल में अपील की गई लेकिन 10 जनवरी, 1931 को इस अपील को खारिज कर दिया गया।
   

    maharana pratap biography in hindi

भगत सिंह की मृत्यु


    भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को फाँसी की सजा सुनाए जाने पर देश भर में विरोध की लहर उठने लगी। तीनों क्रांतिकारियों को फाँसी देने का दिन 24 मार्च, 1931 तय किया था लेकिन लोगो के विरोध को देखते हुए अंग्रेजो ने 23 मार्च, 1931 को रात के 7 बजकर 33 मिनट पर उन्हें फांसी पर चढ़ा दिया।

भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु हँसते हँसते और फाँसी के फंदे को होठो दे चूम कर अपनी जन देश के खातर कुर्बान कर दी।


भगत सिंह और उनके साथियों को जब फांसी पर चढाने के लिए लाया जा रहा था तब भी वे बड़े शान से गा रहे थे -

      दिल से निकलेगी न मरकर भी वतन की उल्फत

         मेरी मिट्टी से भी खुशबू-ए-वतन आएगी|


अंग्रेजों ने भगत सिंह को फांसी पर चढ़ा कर उनकी तो हत्या कर दी लेकिन उनके विचारो ने देश के युवाओ में आजादी के लिए एक नया जोश भर दिया और आज भी भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु युवा दिलो की धडकन है

भारत पाकिस्तान 1965 का युद्ध क्यों और कैसे लड़ा गया?

विजय लक्ष्मी पंडित की जीवनी | vijay laksmi pandit biography in hindi

महान वैज्ञानिक मैडम क्यूरी की जीवनी हिंदी में


Note- friend आपके पास bhagat singh से जुडी कोई information हो तो आप उसे हमारे साथ जरुर शेयर करे और यदि आपको हमारी यह पोस्ट भगत सिंह की जीवनी पसंद आई हो तो अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें  

  

loading...

Loading...

20 motivational quotes in hindi प्रेरणादायी कथन

Hello friends पिछली post 25 inspirational quotes in Hindi मे हमने 25 अनमोल वचन post किए थे । आज हम आपके लिए लेकर आए है 20 motivational quotes in hindi

             20 प्रेरक  अनमोल वचन

20 motivational quotes in hindi


Hindi quotes 
      1.  असफल होना कोई अपराध नही है , परन्तु सफलता के लिए प्रयास भी नही करना अपराध है ।

Hindi Quotes
 2. जब तक कष्ट सहने की तैयारी नही होती तब तक लाभ दिखाई नही देता । लाभ की इमारत कष्ट की धूप मे ही बनती है ।
                         विनोबा भावे

Hindi Quotes

   3. सुन्दर, सच्ची और प्यारी चीजे उसी व्यक्ति के लिए बनाई गई है जो इसे देखना चाहता है ।

Hindi Motivational Quotes
 4. कलियुग मे रहना है या सतयुग मे यह तुम स्वयं चुनो, तुम्हारा युग तुम्हारे पास है ।

Hindi Quotes
 5. जिस राष्ट्र मे चरित्रशीलता नही है उसमे कोई योजना काम नही कर सकती ।
                     विनोबा

Hindi Quotes
  6. आपकी निराशा आपकी गलतियों से जुड़ी होती है ।

Hindi Quotes
  7. हर चीज जो आप खरीदते है उसकी कीमत तो आपको पता होती है लेकिन अपनी आत्मा का मूल्य आप नही जानते । यही सबसे बड़ी मूर्खता है ।

Hindi Quotes
   8. आप जिस चीज की तलाश मे है वो आपको स्वयं तलाश लेगी । निराश होने की जरूरत नही है , जो चीज आपने खो दी है वो नए रूप मे फिर आपके समक्ष आएगी ।

Hindi Quotes
  9. आपका जन्म परिंदों की तरह पंखो के साथ होता है तो फिर आप मंद गति से क्यो चलते है ।

Hindi Quotes
  10. अपने शब्द बढाइए , आवाज नही । फलों को वर्षा पल्लवित करती है दवा नही ।

 अवसर को पहचानिए और बनिए विजेता How to succeed in life 

Hindi Motivational Quotes
   11. दुनिया मे जो कुछ है वो आपके भीतर है । जो भी मांगना है खुद से मांगो ।

Hindi Quotes 
  12. हमारे भीतर अज्ञात शान्ति होती है । जब इंसान को इसका पता चलता है तो यह शक्ति ओर विकसित हो जाती है ।

Hindi Quotes
  13. लक्ष्य  न ओझल हो पाये , कदम मिला कर चल।
        सफलता तेरे चरण चूमेगी , आज नही तो कल ।।
                          स्वामी विवेकानंद

Hindi Quotes
 14. खुद की उन्नति मे इतना समय लगा दे
    की किसी ओर की निंदा का समय न हो ।।

Hindi Quotes
 15. एक श्रेष्ठ व्यक्ति अपनी बोली मे पीछे परन्तु कर्म मे आगे रहता है ।

Hindi Quotes 
  16. दुनिया आपको उस वक्त तक नही हरा सकती जब तक आप स्वयं से न हार जाते ।

Hindi Quotes
  17. नम्रता और मीठे वचन ही मनुष्य के वास्तविक आभूषण है ।

Hindi Quotes
 18. जिसके पास उम्मीद है वह लाख बार हार के भी नही हारता ।

Hindi Quotes
19. मेहनत इतनी खामोशी से करो की सफलता शोर मचा दे ।

Hindi Quotes
20. मनुष्य जितना ज्ञान मे घुल गया हो उतना ही कर्म के रंग मे रंग जाता है ।
                   विनोबा

Read Also
प्रेरक प्रसंग आत्मविश्वास | inspiring story in hindi

15 अनमोल वचन | 15 quotes to success in your life in hindi

आपको हमारी यह 20 Motivational Quotes in Hindi post कैसी लगी आप अपने कमेंट box मे जरूर रखे ।

गीदड़ की चतुराई animals story in hindi


    पंचतंत्र की कहानी - शेर और गीदड़  


जब भी कोई काम करे तो आगे की भी सोच ले उससे हमें बाद में पछताना नहीं पड़ता है और जो आगे की नहीं सोचता उसे पछताना पड़ता है आप सोच रहे होंगे की ऐसा कैसे? तो इस स्टोरी को पढ़े - 

hindi motivational story with moral 

hindi story


एक जंगल में एक शेर रहता था. वो बहुत बूथ हो चूका था इसलिए कम शिकार उसके हाथ आता था. एक दिन शेर को कोई शिकार हाथ नहीं आया. वो भूख से बेहाल हो गया और इधर उधर घुमने लगा. तभी उसने एक गुफा देखि और शेर उस गुफा में जाकर बैठ गया और किसी जानवर के गुफा में आने का इंतजार करने लगा.

जिस गुफा में शेर बैठा था वो गुफा एक गीदड़ की थी उस समय गीदड़ भोजन की तलाश में जंगल में गया हुआ था. जब शाम के समय गीदड़ गुफा में वापिस आया तो उसने गुफा के आगे शेर के पंजो के निशान देखे. गीदड़ को कुछ गड़बड़ लगी और गुफा के दरवाजे को ध्यान से देखने लगा.

उसने देखा की शेर के पंजो के निशान गुफा के अंदर जाने के है बाहर आने के नहीं है. इसका मतलब हुआ की शेर अभी भी गुफा में है.

गीदड़ ने चतुराई से काम लेने का निश्चय किया. गीदड़ ने जोर से आवाज लगाते हुए कहा- " क्योँ री गुफा तू रोज तो मुझे देखकर अंदर बुलाती है आज क्यों नहीं बुला रही है?"

लेकिन सामने से कोई जवाब नहीं आया.


गीदड़ ने फिर जोर से आवाज लगाई - " तू मुझे बुलाती है या मैं यहाँ से किसी दूसरी गुफा में चला जाऊ." लेकिन गुफा मे से कोई जवाब नहीं आया. शेर सोचने लगा शायद गुफा इसको रोज अंदर बुलाती होगी लेकिन आज मेरे डर से नहीं बुला रही है, क्यों नहीं में ही इसे अंदर बुला लू.

जब गीदड़ ने अगली बार आवाज लगाई तो शेर ने भी जवाब में दहाड़ मारी. शेर की दहाड़ सुनकर गीदड़ वहां से भाग गया और शेर हाथ मलते रह गया.

इस तरह गीदड़ ने चतुराई से अपनी जान बचा ली.

read also motivational stories
2 शिक्षाप्रद कहानियाँ Hindi Motivational Story
प्रेरणादायी कहानी - सच्चा दोस्त hindi motivational story
प्रेरक कहानी - लालच बुरी बला | Hindi motivational story 
शिक्षाप्रद कहानी - कौआ और हाथी | motivational story 
शिक्षाप्रद कहानी - दो की लडाई का फायदा.....| Hindi Motivational Story 


moral of story 
    मुसीबत में डरकर बैठने की बजाय बुद्धिमता से उसका सामना करना चाहिए. क्योंकि "जो डर गया समझो वो मर गया" वाली कहावत तो अपने सुनी ही होगी.

इसलिए फ्रेंड्स कोई भी काम करे तो आगे की सोच ले और मुसीबत का सामना करने के लिए हर time ready रहे.


Loading...
if you like this story. plz share this post with your friends in facebook, whatsapp, twitter etc.  if you want to read daily motivational stories and success tips plz subscribe our free email subscription. 

कविता - महिलाओ से | Women poem

महिलाओ के लिए प्रेरणादायी कविता

Women-poem


हर दिन सड़को पर मचली जाती हो ।
सिर्फ सिसकियाँ भर रह जाती हो ।।
फिर भी कहती अबला नही, हम है सबला ।
क्यों ओढ रखा है कायरता पर वीरता का चौला ।।


तुम्ही लक्ष्मी बाई, तुम्ही हो कर्मावती ।
तुम्ही महारानी पद्मिनी ,तुम्ही हो हाड़ी रानी ।।
क्यो सहती हो अन्याय को ।
क्यो मचली जाती हो नामर्दो के हाथो ।।


चुप बैठे ना काम चलेगा, कर्मावती बनना होगा ।
महिषासुरो का बढ गया है अन्याय, दुर्गा बनना होगा ।
आँखो मे वो ज्वाला जगानी होगी ।
पापियों के नाश  के लिए , तलवार उठानी होगी ।।


उतार फेको यह दिखावे का चौला ।
तोड डालो सामने उठती हर अँगुली ।।
फोड़  डालो हर वो  आँख ।
जिसमे हो वासना की आग ।।


           विरम सिंह

हिन्दी कविताएँ

स्तनपान कैसे करवाएं और स्तनपान के लाभ Breastfeeding information in hindi

breastfeeding information

 आजकल आधुनिकता की आड़ में बहुत सी माएं अपने बच्चो को breastfeeding नहीं करवाती है बल्कि bottelfeeding से ही बच्चे को feeding करवाती है.  इससे children और mother दोनों को नुकसान होता है.
आज हम gyandrashta.com breastfeeding के बारें में पूरी जानकारी पोस्ट कर रहे है.

breastfeeding information

स्तनपान कराने के लाभ benefits of breastfeeding

          माँ के दूध से बढ़कर बच्चे के लिए कोई भी दूसरा पोषक तत्व नहीं है. जब बच्चा जन्म लेता है तब ही माँ के स्तन में दूध आता है इससे यह स्पष्ट होता है की बच्चे के लिए माँ का दूध ही लाभदायक है.
breastfeeding कराने के बहुत से लाभ है. माँ का दूध बच्चे के लिए अमृत होता है. जो बच्चे बचपन में माँ के दूध से वंचित रहते है उन्हें कई तरह की बीमारियाँ हो जाती है.


breastfeeding and bottle feeding मेंसे breastfeeding बच्चे को feeding करवाने का सबसे अच्छा और लाभदायक तरीका है. breastfeeding करवाने से बच्चे और mother को बहुत लाभ होते है जैसे -

10 advantages of breastfeeding

⦁    माँ के दूध में कीटाणु नहीं होते है.

⦁    माँ का दूध ताकतवर और पोष्टिक होता है.

⦁    सीधा breastfeeding करवाने से दूषित हवा लगने का भी खतरा नहीं रहता है.

⦁    यह दूध हल्का होता है, जिससे बच्चा जल्दी पचा पाता है.

⦁    माँ के दूध में  बच्चे के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए importance सभी पोषक तत्व होते है.

⦁    माँ के दूध को गर्म करने की और मीठा मिलाने की जरूरत नहीं होती है.

⦁    breastfeeding के टाइम बच्चा कम से कम 20 minute तक माँ के पास रहता जिससे उस माँ का प्यार मिलता है और बच्चे को संतोष भी मिलता है.

⦁    bottelfeeding से बच्चे breastfeeding की अपेक्षा 3 गुना ज्यादा बीमार होते है.

⦁    दूध पिलाने से माँ की बच्चेदानी ठीक अवस्था में आ जाती है.

⦁    माँ को तृप्ति मिलती है और माँ व बच्चे के बिच में स्नेह भी बढ़ता है.




बच्चे को दूध कैसे पिलाएं

   सबसे पहले तो एक बात का प्रमुखता से ध्यान रखे की बच्चे को breast से ही feeding करवाएं. breastfeeding करवाते समय कुछ बातों  का ध्यान रखना बहुत जरुरी है.

 बच्चे को दूध पिलाने से पहले स्तन को साफ कर ले. कई माताएं काम करते करते जब बच्चा रोने लगता है तब दूध पिला देती है . बिना साफ स्तन के दूध पिलाने से बच्चे के मुंह में छाले हो सकते है.

यदि खाना बनाते समय और कोई hard work करने के तुरंत बाद बच्चे को दूध न पिलाए बल्कि कुछ देर तक body को relax होने के बाद जब शरीर का तापमान सामान्य हो जाए तब breastfeeding करवाएं.

बच्चे को बारी बारी से दोनों स्तनों से दूध पिलाना चाहिए.

बच्चे को नियमित अन्तराल में दूध पिलावे. जब भी बच्चा रोता है इसका मतलब यह नहीं की वः भूखा है कुछ ओर problems हो सकती है.

यदि बच्चा दूध पिलाने से पहले रोता है तो उसे गर्म करके (ठंडा होने के बाद) पानी पिलाना चाहिए.

बच्चे को दूध पिलाने के बाद कंधे पर लेटाकर उसकी पीठ को थपथपाना चाहिए, जिससे बच्चे को डकार आ
जाती है और जो breastfeeding के दौरान हवा पेट में गई थी वो बाहर आ जाती है.

 दूध छुड़ाने के उपाय how to stop breastfeeding

  जब भी बच्चे को स्तनपान छुड़ाना हो तो उसे एकदम से छुड़ाने की बजाए धीरे धीरे छुड़ाना चाहिए. यदि पहले आप बच्चे को दिन में 6 बार feeding करवाते थी तो अब उसे 5 बार कर दीजिए और फिर 4,3.... एशे कम करते जाएं.

छ: महीने के बच्चे को रेशेदार सब्जी, खिचड़ी, साबूदाना, केला, फलों का रस आदि पिला सकते है. जब बच्चे को दूध छुड़ाना हो उससे पहले यह सब चीजे देनी शुरू कर  देनी चाहिए.

बच्चे की इतनी देखभाल तब ही की जाती है जब घर में उससे छोटा या हमउम्र कोई बच्चा नहीं हो. इसलिए बच्चों के बिच में उचित अन्तराल रखे जिससे बच्चे का पोषण अच्छे से हो सकता है और माँ की health भी अच्छी रहती है.

Read Also
essay on child labour in hindi बालश्रम पर निबंध



दोस्तों आपको हमारा यह लेख कैसा लगा? आप अपने विचार comments box में जरुर रखे और यदि पोस्ट पसंद आये तो अपने दोस्तों के साथ facebook, whatsapp , twitter पर जरुर share करे.

हमारी new पोस्ट को अपने ईमेल पर free में पाने के लिए हमारा free email subscription जरुर ले.

दो मेंढक Best Hindi Motivational Story

best hindi stories



एक Time मेंढकों का एक Group जंगल के रास्ते  तालाब की ओर जा रहा था । सभी मेंढक अपनी मस्ती मे चल रहे थे । तभी अचानक दो मेंढक एक गड्ढे में गिर गये ।
गड्ढा  थोड़ा गहरा था । जब अन्य मेंढकों ने देखा कि गड्ढा बहुत गहरा है तो उन्होंने दोनो मेंढकों से कहा कि यहा से बाहर निकलना मुश्किल है ।



लेकिन दोनो मेंढक उन के comments को  नजरअंदाज करते हुए बाहर आने की कोशिश करने लगे ।
लेकिन बाहर खड़े मेंढक उन्हे लगातार यह कह रहे थे कि तुम यहा से बाहर नही निकल सकते ।
आधे रास्ते मे अटके हुए दोनो मेंढकों मे से एक ने बाहर खड़े मेंढकों की बातो पर ध्यान दिया ओर उसने अपनी पकड़ छोड़ दी और वह निचे गिर कर मर गया ।

दूसरा मेंढक सभी की बातो को अनसुनी करते हुए लगातार कोशिश करता रहा । अन्त में बड़ी मुश्किल से वो उस गहरे गड्ढे से बाहर आने में सफल हो गया ।

जब वो बाहर आया तो अन्य मेंढकों ने पूछा कि " क्या तुमने हमारी बाते नही सुनी ?"
मेंढक ने Explained करते हुए कहा कि " वह बहरा है उसे दूर से सुनाई नही देता ।"
इसलिए वह मेंढक सोचता रहा कि यह सब साथी उसको प्रोत्साहित कर रहे है क्योंकि उसको सुनाई तो देता नही था ।

शिक्षा -  जीभ मे जीवन और मौत की शक्ति है ।
  एक शब्द किसी को नीचे से ऊपर उठा सकता है और ऊपर से नीचे ला सकता है । इसलिए जो भी कहे सोच समझ कर कहे ।
Motivational words किसी की life को successful बना सकते है ।

Keywords - best hindi motivated story , hindi story, best hindi motivational story , hindi inspired story , inspirational story , 2 मेंढक की कहानी 

Motivational story
मै और मैना का रहस्य