कविता - नानेरो / ननिहाल | poem on nanihal

नमस्कार दोस्तो आज हम आपके लिए एक ऐसी कविता लेकर आए है जिससे आपको अपने बचपन के दिन याद आ जाऐगे ।

     नानेरो

नानेरा ऐडो हाव कटे ,
अटे रे जेडो लाड कटे ।
कावलिया जेडो गांव कटे ।

दाता, भुमा रो लाड अटे,
नाना, नानी रो इदकार अटे ।
जीजी, मामीसा रो चाव अटे ,
कावलिया जेडो गांव कटे ।

kavita-nanihal


चालराँय ऐड़ा और मेहरबान कटे,
खिड़िया रो दरबार अटे ।
नौकर शाही आवाम अटे ,
कावलिया जेड़ो गांव कटे ।


हवेली री शान अटे,
रतनगढ़ निर्माण अटे ।
राजभवन री तास अटे,
कावलिया जेडो ............।

आसू, चन्दु जेड़ा यार कटे,
कालू - गौरू जेड़ो साथ कटे ।
अवध बन्ना ऐड़ा ओर कटे,
कावलिया जेड़ो ................।

नानेरा मे जीण रा प्राण बचे,
'भमु' जेड़ा  भाणेज कटे ।
कावलिया जेडो गांव.......।

         प्रद्युम्न सिंह 'भम्सा'

दोस्तो कविता पढ कर आपको निश्चित ही अपने बचपन के दिन और ननिहाल की याद आ गई होगी । आप अपने ननिहाल के अनुभव और यादे कमेंट बॉक्स मे जरूर लिखे ।

यह कविता प्रद्युम्न सिंह जी द्वारा लिखी गई है जिसमे उन्होंने अपने ननिहाल की यादो का जिक्र किया है ।

महत्वपूर्ण शब्द
 नानेरा = ननिहाल
अटे = यहाँ
कटे = कहा
लाड = स्नेह


विरम सिंह
विरम सिंह

This is a short biography of the post author. Maecenas nec odio et ante tincidunt tempus donec vitae sapien ut libero venenatis faucibus nullam quis ante maecenas nec odio et ante tincidunt tempus donec.

6 comments:

  1. वाह ... आँचलिक भाषा का तड़का रचना को लाजवाब बना रहा है ... बहुत ख़ूब ...

    ReplyDelete
  2. आभार
    देशी खाना और देशी भाषा का मजा कुछ ओर ही है ।

    ReplyDelete
  3. धन्यवाद संजय जी

    ReplyDelete
  4. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" गुरुवार 04 अगस्त 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. धन्यवाद दिग्विजय जी

    ReplyDelete