रविन्द्रनाथ टैगोर के 18 अनमोल वचन | 18 Motivational quotes in hindi

      
   रविन्द्रनाथ टैगोर के 18 अनमोल वचन हिन्दी में          

Ravindranath taegor quotes in English.

  Best hindi quotes of ravindranath taegor. 

Friends Today we will post 18 Motivational quotes of ravindranath taegor in hindi and English.

Quotes 1.Reading less, thinking more, saying less, listening more - this is the way to become intelligent.

 In hindi थोड़ा पढ़ना, अधिक सोचना, कम बोलना, अधिक सुनना – ये बुद्धिमान बनने के उपाय है।

Quotes 2. If a person wants to be happy, then he should remain alive for charity.

In Hindi यदि मनुष्य निरंतर सुखी रहना चाहता है तो उसे परोपकार के लिए जीवित रहना चाहिए ।

Quotes 3. Interviewing God in spirit is the ultimate goal of life.

In hindi आत्मा में परमात्मा का साक्षात्कार करना हि  जीवन का परम लक्ष्य हो ।

Quotes 4. Anything can be done at our own time, when it is the object of our happiness.

In Hindi कोई वस्तु सर्वथा हमारी उसी समय हो सकती है, जब वह हमारी प्रसन्नता की वस्तु हो ।

Quotes 5. The right to punish is only to those who love.

In hindi दंड देने का अधिकार केवल उनको है, जो प्रेम करते है ।

Quotes 6. Greed loses the biggest advantage of the future for the short recovery of the present.

In hindi लालच वर्तमान की अल्प प्राप्ति कम लिए भविष्य के बड़े लाभ को खो देता है।


ravindranath-Quotes


Quotes 7. Gifts of love are not given, they wait for acceptance.

In hindi प्रेम के उपहार दिए नहीं जाते, वे स्वीकार किए जाने की प्रतीक्षा करते है ।

Quotes 8. Lust is cool by going into desire.

In hindi वासना इच्छा में जाकर ठंडी होती है ।

Quotes 9. We read the world wrong and say that he cheats.

In hindi हम संसार को गलत पढ़ते है और कहते है की वह धोखा देता है ।


Read Also - चाणक्य के अनमोल वचन 

Quotes 10. Ideas When dissolves together with one's temperament, they become one after another.

In hindi विचार जब स्वभाव के साथ घुल मिलकर एक हो जाते है, तब वे आचार बन जाते है ।

Quotes 11.  Protect me from calamity-that is not my prayer. Do not be afraid of adversity, this is prayer. I can win sorrow, do not break my own strength, this is the prayer.

In hindi विपत्ति से मेरी रक्षा करो-यही मेरी प्रार्थना नहीं है। में विपत्ति से डरूं नहीं, यही प्रार्थना है । मै दुःख को जीत सकूं, मेरा अपना बल न टूटे, बस यही प्रार्थना है।

Quotes 12. The power to please everyone is not in everyone.

In hindi सबको प्रसन्न करने की शक्ति सब में नहीं होती है।

Quotes 13. We are near the greatness, when we are great in humility.

In hindi हम महानता के निकट होते है है, जब हम नम्रता में महान होते है।

Quotes 14. The pain of fall only keeps consciousness awake.

In hindi पतन की वेदना ही चेतना को जागृत रखती है।

Quotes 15.It is not obligatory to do anything or to do anything.

Sometimes doing nothing is considered to be the greatest duty.

 In hindi कुछ न कुछ कर बैठने को ही कर्तव्य नहीं कहा जा सकता ।
           कभी कभी कुछ न करना ही सबसे बड़ा कर्तव्य माना जाता है ।

loading...
Quotes 16. Who can not say clearly the pain of the mind, the anger is more the same.

In hindi जो मन की पीड़ा को स्पष्ट रूप से कह नहीं सकता, उसी को क्रोध अधिक आता है।

Quotes 17. Some of the greats of elders can be done only by being unobtrusive.

In hindi बड़ो की कुछ समता हम विनीत होकर ही कर पाते है।

Quotes 18. The liberation of karma is in happiness, the liberation of happiness is in karma.

In hindi कर्म की मुक्ति आनंद में, आनंद की मुक्ति कर्म में है।
  दोस्तों आपको रविन्द्रनाथ टैगोर के 18 अनमोल वचन कैसे लगे और आपको कोनसा quotes पसंद आया । आप अपने विचार कमेंट्स बॉक्स में जरुर रखे । अच्छा लगे तो दोस्तों के साथ शेयर भी जरुर करें ।

हमारी post को अपने ईमेल पर फ्री में पाने के लिए हमारा free email subscribe जरुर ले और फेसबुक पर अनमोल वचन पाने के लिए हमारा facebook fan page भी जरुर like करें |




विरम सिंह
विरम सिंह

This is a short biography of the post author. Maecenas nec odio et ante tincidunt tempus donec vitae sapien ut libero venenatis faucibus nullam quis ante maecenas nec odio et ante tincidunt tempus donec.

3 comments:

  1. रबीन्द्रनाथ टैगोर एक साहित्यकार, कलाकार के साथ साथ एक विचारक और समाज सुधारक भी थे । ऐसे महान कवि के अनमोल विचारो को शेयर करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  2. बाहुत सुन्दर विचार.

    ReplyDelete
  3. रबिन्द्रनाथ टैगोर जी के विचार हमारे साथ सांझा करने के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete