महात्मा बुद्ध के 20 motivational quotes in hindi

महात्मा बुद्ध के motivational quotes in hindi .
दोस्तों आज हम gyandrashta.com  पर महात्मा बुद्ध के motivational quotes और  famous quotes को post कर रहे है.  

Saying 1; पीड़ा पाप का परिणाम (Results) है.

Saying 2; जो मनुष्य टाइम पर अपना कार्य कर लेता है, वह बाद में पछताता नहीं.

Saying 3; मृत्यु के डर को देखते हुए मानव को सुख देने वाले पुण्य कर्म कर लेने चाहिए.

Saying 4; इच्छा से दुःख आता है. इच्छा से भय आता है. जो इच्छा से मुक्त है, वह न दुःख जानता है न भय.

Saying 5; उसी काम को करना ठीक है, जिसको करके पीछे पछताना न पड़े.

Saying 6; उबलते हुए जल में जिस प्रकार हम अपना प्रतिबिंब नहीं देख सकते, उसी प्रकार हम क्रोधी बनकर नहीं समझ सकते कि हमारी भलाई किस बात में है?



anmol-vachan


Saying 7; घृणा को घृणा से नष्ट नहीं किया जा सकता.

Saying 8; जितनी हानि शत्रु शत्रु की और बैरी बैरी की करता है, उससे अधिक झूठे मार्ग पर लगा हुआ चित्त करता है.

Saying 9; मनुष्य जितना ही कामादि का सेवन करता है, उतनी ही उसकी तृषा बढती है. काम के सेवन में क्षणमात्र के लिए ही रसास्वाद मालूम देता है.

Saying 10; अभिमान की अपेक्षा नम्रता से अधिक लाभ होता है.

Inspirational quotes in hindi

Saying 11; परोपकार करने वाले इस दुनिया में भी खुश रहते है और दूसरी में भी.


motivational-quotes


Saying 12; प्रेम ही स्वर्ग का मार्ग है, मनुष्यत्व का दूसरा नाम है. समस्त प्राणियों से प्रेम करना ही सच्ची मनुष्यता है.

Saying 13; चलते, खड़े होते, बैठते अथवा सोते हुए जो अपने मन को शांत रखता है, वह अवश्य ही शांति प्राप्त कर लेता है.

Saying 14; पुण्यकर्म परलोक के मित्र है.

Saying 15; जो काम निकल जाने के बाद भी मित्र बना रहता है, वही मित्र है.


Inspirational-quotes


Saying 16; मूर्ख अधमरे घड़े की तरह शोर मचाते है, किन्तु प्रज्ञावान गंभीर मनुष्य सरोवर की भांति सदा शांत रहते है.

Saying 17; लोभ के फंदे में फंसा हुआ मनुष्य हिंसा भी करता है, चोरी भी करता है, परस्त्रीगमन भी करता है, झूठ भी बोलता है और दूसरों को भी वैसा ही करने के लिए प्रेरित करता है.



loading...
Saying 18; मूर्खो की संगती में रहने वाला मनुष्य चिरकाल तक शोक निमग्न रहता है.

Saying 19; अहंकार के समूल नाश से तृष्णा ओं का अंत हो जाता है.

Saying 20; यह जहरीली तृष्णा जिसे जकड़ लेती है, उसके शोक जंगली घास की तरह बढ़ते ही जाते है.


दोस्तों आपको हमारा यह प्रयास कैसा लगा आप कमेंट्स करके जरुर बताए. 
Previous
Next Post »