महाभारत के 25 अनमोल वचन motivational quotes

दोस्तों आज हम  gyandrashta.com पर महाभारत के अनमोल वचन post कर रहे है. Mahabharat 25 Best hindi motivational quotes in hindi.

1. ये इन्द्रियां ही स्वर्ग और नरक है. इनको वश में रखना स्वर्ग और स्वतंत्र छोड़ देना नर्क है.
                     महाभारत

2 धनवानों में सुस्वादु अन्न को सेवन करने की शक्ति प्राय: नहीं रह जाती है, परन्तु गरीब लोग काठ को भी पूरी तरह से पचा जाते है.
                                   महाभारत

3. मनुष्य का पराक्रम उसके सब अनर्थ दूर कर देता है.
                           महाभारत

4. मनुष्य के पास बुद्धिबल से बढ़कर श्रेष्ठ कोई दूसरी वस्तु नहीं है.
                                 महाभारत

5. कल का कार्य आज कर. दोपहर का कार्य दोपहर से पहले कर. मृत्यु प्रतीक्षा नहीं करती कि मनुष्य ने काम पूरा किया या नहीं.
                              महाभारत
  
hindi-quotes


6. जो अपने प्रतिकूल जान पड़े उसे दुसरो के प्रति भी न करें.
                              महाभारत

7. जो व्यक्ति विपत्ति आने से पूर्व ही उसके प्रतिकार का उपाय कार लेता है और प्रत्युत्पन्नमति है, वे दोनों ही सुख पुर्वंक जीते है, विलंब से कार्य करने वाला नष्ट हो जाता है.
                                 महाभारत

8. जहाँ सब लोग नेता बनने के इच्छुक हों, जहाँ सब सम्मान चाहते हों और पंडित बनते हों, जहाँ सभी महत्वाकांक्षी हों, वह समुदाय पतित और नष्ट हुए बिना नहीं रह सकता.
                                    महाभारत

9. नारी प्रकृति की बेटी है. उस पर क्रोध न करे. उसका हृदय कोमल होता है. उस पर विश्वास करो.
                                 महाभारत

10. लोभ धर्म का नाशक है.
                        महाभारत

Motivational quotes in hindi

11. शरणागत की रक्षा करना बहुत ही पुनीत कर्म है, ऐसा करने से पापी के भी पाप का प्रायश्चित हो जाता है.
                          महाभारत

12. फल को सामने रखकर ही कर्म में प्रवृत होने वाले एक प्रकार से दीन होते है.
                           महाभारत

13. प्रिय वस्तु प्राप्त होने पर भी तृष्णा तृप्त नहीं होती, वह ओर भी भड़कती है जैसे ईधन डालने से अग्नि.
                                 महाभारत

14. अपनी निंदा सहने की शक्ति रखने वाला व्यक्ति मानों विश्व पर विजय पा लेता है.
                             महाभारत

15. जो पुरुषार्थ नहीं करते वे धन, मित्र, ऐश्वर्य, उत्तम कुल तथा दुर्लभ लक्ष्मी का उपयोग नहीं कर सकते.
                                   महाभारत

16. अगर तुम किसी की भलाई करते हो तो, इहलोक और परलोक, दोनों में तुम्हारी भलाई होती है.
                                     महाभारत

17. मुर्ख आदमी बिना बुलाये भीतर घुस आता है और बिना पूछे बोलने लगता है, जिस पर विश्वास नहीं करना चाहिए, उसका विश्वास करता है.
                                    महाभारत

18. लज्जा नारी का अमूल्य रत्न है.
                         महाभारत

19. विपत्ति के आने पर अपनी रक्षा के लिए व्यक्ति को अपने पड़ोसी शत्रु से भी मेल कर लेना चाहिए.
                              महाभारत

20. शांति का मूलाधार शक्ति है.
                          महाभारत

21. जैसे सूखी लकड़ी के साथ मिली होने पर गीली लकड़ी भी जल जाती है, उसी प्रकार दुष्ट- दुराचारियों के साथ सम्पर्क में रहने पर सज्जन भी दुःख भोगते है.
                                              महाभारत

22. यदि पानी पीते – पीते उसकी बूंद मुहं से निकलकर भोजन में गिर पड़े तो वह खाने योग्य नहीं रहता. पीने से बचा हुआ पानी पुन: पीने के योग्य नहीं होता.
                                       महाभारत

23. दिनभर में वह कार्य कर लें, जिससे रात में सुख से सो सकें और आठ महीनो में वह कार्य करले, जिससे वर्षा के चार महीने सुख से व्यतीत कर सकें. पहली अवस्था में वह कार्य करें, जिससे वृद्धावस्था में सुखपूर्वक रह सकें और जीवन भर वह कार्य करें, जिससे मरने के बाद भी सुख से रह सकें.
                                         महाभारत

24. घर में फूटे बर्तन और टूटी खाट नहीं रखनी चाहिए. फूटे बर्तन में कलयुग का निवास होता है और टूटी खाट रहने से धन की हानी होती है.
                                       महाभारत

25. सो कर नींद जीतने का प्रयास न करें. कामोपयोग के द्वारा स्त्री को जीतने की इच्छा न करें.
                                महाभारत

दोस्तों आपको हमारी यह “ महाभारत के 25 अनमोल वचन” कैसे लगे , आप अपने विचार comments box में जरुर रखे.

Keywords:- motivational quotes in hindi, quotes in hindi , inspirational quotes in hindi


Previous
Next Post »