2 शिक्षाप्रद कहानियाँ Hindi Motivational Story


  2 शिक्षाप्रद कहानियाँ 

                 अभ्यास का महत्त्व 
एक किसान खेत पर काम कर रहा था | उसके साथ उसका पुत्र था – उम्र में काफी छोटा | किसान अपने पुत्र को हल चलाना सिखा रहा था | बच्चा छोटा था, इसलिए ठीक से हल पकड़ नहीं पा रहा था | लेकिन किसान था की सिखाने की कोशिश जारी रखे हुए था|
   तभी एक राहगीर उधर से गुजरा| उसने किसान का यह कार्य देखा तो उससे रहा नहीं गया , उसने किसान से कहा –“ भाई, आप बच्चे से हल चलवा रहे है | लेकिन यह तो बहुत छोटा है | क्या यह उचित है?”


hindi story

     किसान ने बड़े विश्वास से उत्तर दिया –“ अभी यह छोटा है तो क्या हुआ? अभी से कोशिश क्स्रेगा, तभी न इस कार्य में पारंगत होगा | छोटी उम्र में ही अभ्यास नहीं डाला गया तो जीवन में सफलता मिलनी आसान नही | अभ्यास ही मनुष्य को सफल बनाता है| जानते है न- ‘करत – करत अभ्यास के जड़मत होता सुजान|’
         राहगीर किसान के उत्तर से संतुष्ट हो आगे चल दिया |

2 motivational story

                 धैर्य में ही सफलता
एक आश्रम में, शिक्षा सत्र समाप्ति पर, गुरु ने शिष्यों की अंतिम परीक्षा लेने के उद्देश्य से, सब के हाथो में बांस से बनी एक एक टोकरी पकड़ा ते हुए कहा –“तुम सब नदी पर जाकर इन टोकरियो में जल भर कर लाओ और आश्रम की सफाई करो|”
   गुरु की आज्ञा मानकर शिष्य चल पड़े| सोचने लगे की टोकरियो में जल कैसे भरे जाएगा? जल तो छेदों से बहकर निकल जाएगा | नदी पर वही हुआ| टोकरियो में पानी भरते ही बह जाता था |
loading...
    सदाव्रत नामक शिष्य को छोड़ कर सभी शिष्य टोकरिय वाही फेंककर आश्रम में आ गए| लेकिन सदाव्रत ने प्रयास नहीं छोड़ा और शाम तक टोकरियो में जल भरने का प्रयास करता रहा | आखिर उसका धैर्य रंग लाया और टोकरी में बार बार जल लगने से बांस की कमानियाँ फूल गई और उनके बिच में छेद बंद हो गये और जल रिसना बंद हो गया |

   सदाव्रत टोकरी में जल लाकर आश्रम की सफाई में जुट गया | तब गुरु ने सभी शिष्यों को बुलाकर कहा –“यह अंतिम शिक्षा थी जिसमे सदाव्रत के अलावा सभी छात्र fail हुए है| जीवन में किसी भी काम में सफलता पाई जा सकती है | बस, शर्त यह है की उसे करने के लिये पर्याप्त धैर्य होना चाहिए |”


उक्त 2 Story से यह ही शिक्षा मिलती है की यदि हमे लाइफ में success होना है तो अभ्यास और धैर्य होना बहुत जरुरी है| 


Previous
Next Post »

1 टिप्पणियाँ:

Click here for टिप्पणियाँ
May 12, 2017 at 8:41 AM ×

आपने सही कहा है कि धैर्य और परिश्रम की द्वारा सफलता अर्जित की जा सकती है ।

नीरज
www.janjagrannews.com

Congrats bro Neeraj Srivastava you got PERTAMAX...! hehehehe...
Reply
avatar