पढा़ई करवा म्हें जास्याँ Hindi poem


Hindi-poem-girl-study


ओ म्हारी पढा़ई छे नखराळी ऐ माँ
पढ़ाई करवा म्हें जास्याँ 
ओ माँ पढ़ाई करवा म्हें जास्याँ

ओ म्हाने पढता ने किताब लादयो ऐ माँ
पढ़ाई करवा म्हें जास्याँ 
ओ माँ पढ़ाई करवा  म्हें जास्याँ

ओ म्हाने पढता ने  कागज कलम लादयो ऐ माँ 
पढा़ई करवा म्हें जास्याँ
ओ  माँ पढा़ई करवा म्हें जास्याँ

ओ म्हाने बालपने मे मत देजो रे माँ 
पढाई करवा म्हें जास्याँ
ओ माँ पढाई करवा म्हें जास्याँ 

ओ म्हाने चार आखर पढ़न दिजो रे माँ
पढा़ई करवा म्हें जास्याँ
ओ माँ पढा़ई करवा म्हें जास्याँ

ओ म्हारी पढाई छे नखराळी ऐ माँ
पढाई करवा म्हें जास्याँ ...
                     विरम सिंह 




विरम सिंह
विरम सिंह

This is a short biography of the post author. Maecenas nec odio et ante tincidunt tempus donec vitae sapien ut libero venenatis faucibus nullam quis ante maecenas nec odio et ante tincidunt tempus donec.

3 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" सोमवार 19 सितम्बर 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. अनुपम भाव संयोजित किये हैं आपने .. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति

    ReplyDelete