युवा देखे है

       

            कविता


कविता युवा देखे है



नीली नीली आँखो से तीर निकलते देखे है
घायल पंछी की भांति तड़पते आशिक देखे है ।।

कोयल जैसी आवाज उसकी , रसगुल्ले जैसे होठ है ।
इन होठो पर मरते युवा देखे  है   ।।

बादाम जैसी आँखे उसकी , हिरणी सी चाल है ।
आँखो से आँखे लड़ाते नौजवान देखे है ।।

वो भाव देती नहीं , ( फिर भी) चींटी की तरह चिपकते है।
भारत माता पुकार रही , अनजान बनते युवा देखे है ।।

जिसने नौ माह पेट मे रखा , दि जमाने की हर खुशी।
उस माँ को "तेरी क्या औकात " कहते बेटे देखे है ।।

गाय माता दुख मे पुकार रही है ।
इश्क मे घायल युवाओ को अनजान बनते देखे है ।।

घायल पंछी की भांति तड़पते आशिक देखे है .....

♤♤♤♡♤♡♢♧♡■♡♢♤♢♧♢♡♢☆♢

                 विरम सिंह सुरावा



Previous
Next Post »