कविता - वक्त की आँधी


gyandrashta


वक्त की आँधी का कैसा कहर है 
रावलो के राज मे पड़ गया खलाल है।
जिस धरती को समझा माँ सींचा अपने रक्त से
उस धरती का भूपति कोई ओर है।
चित्रकूट , चिड़ियाटूँक आज सुनसान है
याद कर रहे राजपुतो की शान है ।

महाराणा जो झुका नही अडिग रहा खड़ा वही
जिसके सामने बादशाह फकीर हुआ
उस राणा की धरती का हो रहा अपमान है ।
एक जयमल महान था राठौड़ो की शान था
मेड़ता का अभिमान था धर्म की वो ढाल था ।

एक पृथ्वी सुरवीर था
शब्द भेदी बाण से देता दुश्मनो की चीर था।
जो प्रेरणा की मिसाल था चन्द्रसेन उसका नाम था 
घाव सहन कर लड सकता वो सांगा महान था।

आज हम कमजोर है पर बाजुओ मे जोर है
इस घायल शेर को छेड रहा संसार है ।
भूल उनकी है यही की वक्त भरता घाव सभी
नया सवेरा तब आएगा जब परचम राजपुताना का लहरायेगा ।

              प्रद्युम्न सिंह 'भम्सा'

English version

Vakt ki andhi ka kesa khar he
Rawlo ke raaj me pad gaya khalal he
Jis darti ko samja maa sicha apne rakt se
Us darti ka bhupati ajj koi or he
Chitrakoot chidiyatook ajj sunsan he
Yad kar rahe rajputo ki san he
1-2
Maharana jo juka nahi adig raha khada vahi
Jis ke samne badshah fakir hua
Us rana ki darti ka ho raha apman he
Ek jaimal mahan tha rathoro ki saan tha
medta ka abhiman tha darm ke wo dhal tha
1-2
Ek prithvi shurveer tha
Sabd bhedi ban se deta dusmano ko chir tha
Jo prerna ki misal tha chandrasen uska nam tha
Ghav shan kar ladsakta wo sanga mahan tha
1-2
Ajj ham kamjor he par bajuo me jorr he
Is ghayal Sher ko ched raha sansar he
Bhol unki he yahi ki wakt bharta gaav sabhi
Naya savera tab aega jab parcham rajputana ka lehraega


विरम सिंह
विरम सिंह

This is a short biography of the post author. Maecenas nec odio et ante tincidunt tempus donec vitae sapien ut libero venenatis faucibus nullam quis ante maecenas nec odio et ante tincidunt tempus donec.

No comments:

Post a Comment