20 success life tips in hindi

दोस्तों आज हम इस post में ऐसी 20 point के बारे में बात करेंगे जिनको follow करेंगे तो आपकी लाइफ खुशहाल हो सकती है | इस 20 points मे every point में चार बातों का जिक्र है |


1. चार बातों  को याद रखें   :-  बड़े बूढ़ों का आदर करना , छोटों से स्नेह रखना  व उनको पूर्ण सरंक्षण देना , बुद्धिमानों से सलाह लेना और मूर्खो के साथ कभी न उलझना |

2. इन चार चीजो का सदा सेवन करना चाहिये :- सत्संग , संतोष , दान और दया |

3. आदमी के बिगड़ने की चार अवस्था :-  जवानी , धन , अधिकार और अविवेक |

4. ये चार चीजे मनुष्य को बड़े भाग्य से मिलती है :- उदारता , चरित्र की निर्मलता , संतो की संगती और भगवान को याद रखने की लगन |

5. ये चार बहुत दुर्लभ है :-  धन में पवित्रता , दान में विनय , वीरता में दया और अधिकार में निराभिमानता |

6. इन चार चीजो पर कभी भरोसा मत करो :-  शत्रु , बिना जीता हुआ मन , स्वार्थियों की खुशामद और बाजारू ज्योतिषियों किन भविष्यवाणी |

7.  इन चार चीजों पर हमेशा भरोसा रखो :- सत्य , पुरुषार्थ , स्वार्थहीन मित्र और इष्टदेव |

8.  ये चार चीजें जाकर फिर नहीं लौटती :- मुँह से निकली बात , कमान से निकला तीर , बीती हुई उम्र और मिटा हुआ अज्ञान |

9. इन चार बातों को हमेशा याद रखो :- दुसरे द्वारा किया हुआ अपने ऊपर उपकार , अपने द्वारा दुसरे पर किया गया उपकार , मृत्यु और भगवान |

10. इन चार के संग से बचने की चेष्टा रखे :-  नास्तिक , अन्याय का धन , परनारी और परनिंदा |

15 अनमोल वचन | 15 quotes to success in your life in hindi

11. इन चार पर मनुष्य का बस नहीं चल सकता :-  जीवन , मरण , यश और अपयश |

12. इन चार का परिचय इन चार अवस्थाओ में मिलता है :-  दरिद्रता में मित्रता का , निर्धनता में स्त्री का , रण में शूरवीरता का और बदनामी में बन्धु बांधवों का |

loading...
13. इन चार बातों में मनुष्य का कल्याण है :- वाणी के संयम में , कम सोने में , थोडा खाने में और एकांत में भगवत स्मरण में |

14.  शुद्ध साधना के लिए इन चार बातों का पालन आवश्यक है :- भूख से कम खाना , लोक प्रतिष्ठा का त्याग , निर्धनता को स्वीकारना और ईश्वर इच्छा में संतोष |

15. मनुष्य चार प्रकार के होते है :-  मक्खीचूस - न आप खाये और न दूसरों को खाने दे |
                                               स्वार्थी - आप तो खाये पर दूसरों को न दे |
                                 उदार - आप भी खाये और दूसरों को भी दे |
                               दाता :- जो आप न खाकर दूसरों को दे |
यदि सभी लोग दाता न बन सके तो कम से कम उदार तो बनना ही चाहिए |



16.  मन के चार प्रकार होते है :- धर्म से विमुख जीव का मन मुर्दा है , पापी का मन रोगी है , लोभी तथा स्वार्थी का मन आलसी है और भजन साधना में मन स्वस्थ है \

17.  इन चारों को कभी विस्मरण नहीं करना चाहिये :- माता , पिता , गुरु और स्वयं के प्रति अन्य द्वारा किया गया उपकार |

18.  चार चीजे स्वास्थ्य के लिए हितकर है :- मौसम के अनुसार ही खाना पीना , भूख लगने पर ही खाना , जल्दी सोना और जल्दी उठना |

19.  इन चार को अपने मन मंदिर में मत पनपने दो :- काम , क्रोध , लोभ और ईर्ष्या |

20. ये चार चीजे कभी भरोसे लायक नहीं है :- काया , माया , छाया और साया |


friends आपको हमारा यह जीवन में चार का महत्त्व पर लेख कैसा लगा | आपको यदि हमारा यह लेख पसंद आये तो अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे |  
विरम सिंह
विरम सिंह

This is a short biography of the post author. Maecenas nec odio et ante tincidunt tempus donec vitae sapien ut libero venenatis faucibus nullam quis ante maecenas nec odio et ante tincidunt tempus donec.

3 comments:

  1. अच्छे सूत्र सभी ... याद रखने वाली बातें ...

    ReplyDelete
  2. जीवन से जुडी बहुत जरुरी और उपयोगी बातें बताई हैं । धन्यवाद इस महत्वपूर्ण जानकारी के लिए ।

    ReplyDelete
  3. धन्यवाद दिगम्बर नसवा जी एंड बबिताजी

    ReplyDelete